बिहार क्रिकेट के आ गए हैं अच्छे दिन: रविशंकर

खेल डेस्क. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बिहार को 18 वर्षों बाद बीसीसीआई के तत्वावधान में आयोजित घरेलू मैचों के सभी फॉर्मेट में खेलने का अवसर मिला. जिसमें खिलाड़ियों ने जिस तरह का प्रदर्शन किया वो न केवल बीसीए बल्कि हरेक बिहारवासी के लिए गर्व की बात है.

अब बिहार क्रिकेट के अच्छे दिन आ गये हैं. यह बात बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव रविशंकर प्रसाद सिंह ने सोमवार को यहां के होटल युवराज में प्रेस वार्ता के दौरान कही. उन्होंने कहा कि प्रारंभिक उपलब्धियों ने राज्य के क्रिकेटरों और क्रिकेट से जुड़े व्यक्तियों और संस्थाओं की जिम्मेदारी बढ़ा दी है.

हमसब राज्य में क्रिकेट के विकास के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने कहा कि वह दिन दूर नहीं, जब बिहार के खिलाड़ी राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलकर सम्पूर्ण बिहार को गौरवान्वित होने का मौका देंगे.

बिहार के चार खिलाड़ी इंडिया यू-19 टीम के चयन के लिए हो रहे कैम्प का हिस्सा हैं. रणजी टीम बिहार के कप्तान आशुतोष अमन ने विश्व में अपनी स्पिन गेंदबाजी के लिए प्रसिद्ध भारतीय टीम के कप्तान बिशन सिंह बेदी का 44 वर्ष पूर्व का रिकार्ड तोड़कर बिहार को गौरवान्वित होने का मौका दिया.

बिहार की टीम विजय हजारे टूर्नामेंट और बीनू मांकड यू-19 टूर्नामेंट में पूल चैंपियन बनी, जबकि कप्तान अपूर्वा आनंद 2018-19 सत्र में देश में सबसे अधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राष्ट्रीय चैलैंजर ट्राफी यू-19 टीम में बिहार के चार खिलाड़ियों को स्थान मिला.

बीसीसीआई ने प्रशिक्षण देकर आठ को वीडियो एनालिस्ट और चार को स्कोरर बनाकर बीसीए नहीं बीसीसीआई के पैनल में शामिल किया गया है. बिहार टीम के सात खिलाड़ियों को बीसीसीआई की चयन समिति ने चयनित कर एनसीए के होने वाले कैम्प में प्रशिक्षित किया गया है.

बेगूसराय जिला क्रिकेट संघ के सभी सदस्य, क्रिकेट से जुड़े लोग अंडर-23 के सहयोग से जोनल मैचों का आयोजन सफल रहा. बेगूसराय में मैच कराने एवं क्रिकेट के आंतरिक संसाधन का विकास के लिए लगातार प्रयास चल रहा है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: