बिडेन, ट्रम्प के चुनाव अभियान पर विदेशी हैकर्स का हमला

नई दिल्ली, 05 जून (हि.स.). अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन दोनों के चुनाव अभियान में लगे कर्मचारियों को हाल ही में विदेशी हैकरों ने निशाना बनाया है. गूगल के शोधकर्ताओं ने गुरुवार को यह जानकारी देते हुए नवम्बर में होने वाले अमेरिकी चुनाव से पहले डेटा सुरक्षा चिंताओं पर प्रकाश डाला.

गूगल के खतरा विश्लेषण प्रमुख शेन हंटले के एक ट्वीट में कहा गया है कि इंटरनेट दिग्गज ने बिडेन के चुनाव अभियान को चीन से “फ़िशिंग” खतरों और ट्रम्प के चुनाव अभियान पर ईरान से हमलों के बारे में चेतावनी दी थी. हंटले ने लिखा, ” इन प्रयासों से समझौते का कोई संकेत नहीं है. हमने उपयोगकर्ताओं को हमले की चेतावनी भेजी और हमने कानून प्रवर्तन एजेंसियों को भी इसकी जानकारी भेजी है.”

यह घटना 2016 में हिलेरी क्लिंटन के प्रचार अभियान में विनाशकारी डेटा सेंधमारी के दोहराव की आशंकाओं को उजागर करती है जो अधिकारियों के हिसाब से रूस से निर्देशित किया गया था.

हंटले ने कहा कि ये घटनायें चुनाव अभियान संचालकों को सुरक्षा और सावधानी बरतने के लिए एक चेतावनी होनी चाहिए. प्रमाणित उपयोगकर्ताओं को सत्यापित करने के लिए कम से कम दो-तथ्यों से  प्रमाणीकरण भी शामिल होना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि गूगल अमेरिकी राष्ट्रपति और कांग्रेस के चुनाव अभियानों के लिए मुफ्त सुरक्षा हार्डवेयर और अन्य सहायता प्रदान कर रहा है.

माइक्रोसॉफ्ट ने पिछले साल चेतावनी दी थी कि ईरानी सरकार समर्थित साइबर ऑपरेशन द्वारा कम से कम एक राष्ट्रपति के चुनाव अभियान को निशाना बनाया जा रहा है. रिपोर्टों में कहा गया है कि इस प्रयास में ट्रम्प के चुनाव अभियान के एक कर्मचारी को निशाना बनाया गया.

एक समूह जिसे माइक्रोसॉफ्ट ने “फॉस्फोरस” नाम दिया था, उसने उन लोगों के ईमेल खातों की पहचान करने की कोशिश की जिनमें अमेरिकी अधिकारी, वैश्विक राजनीति को कवर करने वाले पत्रकार, देश के बाहर रहने वाले प्रमुख ईरानी और एक राष्ट्रपति के चुनाव अभियान का संचालन कर रहे लोग शामिल थे.

फेसबुक, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और ट्विटर की सुरक्षा टीमों ने पिछले साल एफबीआई, होमलैंड सिक्युरिटी और खुफिया अधिकारियों के साथ चुनावी खतरों पर सहयोग के बारे में चर्चा की थी.

हिन्दुस्थान समाचार/राकेश सिंह

Leave a Reply

%d bloggers like this: