नहीं रहे लोकगायकी के नायक 'बिरहा सम्राट' हीरालाल यादव, PM ने जताया दुख…

नई दिल्ली. लोकगायकी से लाखों के हृदय में बसने वाले हीरा लाल यादव का रविवार की सुबह निधन हो गया, वो करीब 93 वर्ष के थे. बिरहा सम्राट पद्मश्री हीरालाल यादव का रविवार सुबह निधन हो गया.

रविवार सुबह 10 बजे के लगभग हुकुलगंज स्तिथ आवास से उनके निधन की खबर आयी. हीरालाल यादव लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे और भोजूबीर में इलाज चल रहा था. अपने निवास पर अंतिम सांस ली.

अस्‍पताल से चौकाघाट स्थित आवास पर उन्हें लाया गया और यहीं उन्होंने अंतिम सांस ली. पुत्र सत्यनारायण यादव ने बताया कि दो दिन पहले ही पीएम मोदी ने फोन कर स्वास्थ्य की जानकारी ली.

इसी साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर हीरा लाल यादव को पद्मश्री से सम्मानित किया गया. 16 मार्च को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति भवन में महामहिम रामनाथ कोविंद ने पद्म अलंकार प्रदान किया था. बीमार होने के बादि भी वो राष्ट्रपति भवन पहुंचे थे. उनके निधन पर पर पीएम ने भी टवीट कर शोक व्‍यक्‍त किया है.

हीरालाल के निधन की सूचना से शोक की लहर फैल गयी. तमाम लोगों ने उनके आवास पर पहुंचकर संवेदना प्रकट की. करीब सात दशक तक हीरा-बुल्लू की जोड़ी गांव शहर में बिरहा की धूम मचाती रही. दोनों ही गायक राष्‍ट्रभक्ति गीतों से स्वतंत्रता आंदोलन की अलख जगाते रहे. बुल्लू यादव का निधन पहले ही हो चुका था.

मूलरूप से वाराणसी जिले में हरहुआ ब्लाक के बेलवरिया निवासी हीरालाल यादव का जन्म वर्ष 1936 में चेतगंज स्थित सरायगोवर्धन में हुआ. उनका बचपन बहुत ही गरीबी में गुजरा था, भैंस चराने के दौरान शौकिया गाते-गाते अपनी सशक्त गायकी से बिरहा को आज राष्ट्रीय फलक पर पहचान दिलाई और बिरहा सम्राट के रूप में ख्यात हुए.