उत्तर प्रदेश की हिंसा में बंगाल के उपद्रवियों का हाथ, अलर्ट पर पुलिस

  • दरअसल शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस पर पथराव, आगजनी और तोड़फोड़ हुई थी.इसकी जांच में जुटी पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है
  • सूत्रों के अनुसार कि लखनऊ के परिवर्तन चौक पर हुए विरोध प्रदर्शन में करीब 200 से अधिक बाहरी लोग आए थे, जिसमें पश्चिम बंगाल बल्कि अलीगढ़ और दिल्ली से भी लोगों को लाया गया था

कोलकाता. लखनऊ के अमन-चैन में शुक्रवार को हिंसक प्रदर्शनों के जरिए खलल डालने वालों की गिरफ्तारी में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं.पता चला है कि बंगाल से मुस्लिम युवकों को गाड़ियों में भरकर लखनऊ ले जाया गया था.लखनऊ पुलिस ने पश्चिम बंगाल पुलिस से ऐसे लोगों की सूची मांगी है, जो संभावित हिंसा में शामिल हो सकते हैं.उत्तर प्रदेश खुफिया पुलिस की टीम भी पश्चिम बंगाल में रची गई साजिश को उजागर करने की जांच में जुटी है.

दरअसल शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस पर पथराव, आगजनी और तोड़फोड़ हुई थी.इसकी जांच में जुटी पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है, जो पश्चिम बंगाल के मालदा के निवासी हैं.पता चला है कि गिरफ्तारी के बाद जब इनसे परिचय पत्र मांगा गया तो इन्होंने साफ स्वीकार किया कि ये पश्चिम बंगाल के मालदा के रहने वाले हैं और केवल हिंसा फैलाने के लिए उन्हें लाया गया था.इनकी पहचान असलम, शाह आलम, सागर अली, संजू अली, खैरुल और सहेदुल के तौर पर हुई है.ये सारे मालदा के हरिशचंद्रपुर और आसपास के रहने वाले हैं.लखनऊ पुलिस ने इनकी रिपोर्ट पश्चिम बंगाल पुलिस को भेजी है.यहां भी पुलिस जांच में जुट गई है.

सूत्रों के अनुसार कि लखनऊ के परिवर्तन चौक पर हुए विरोध प्रदर्शन में करीब 200 से अधिक बाहरी लोग आए थे, जिसमें पश्चिम बंगाल बल्कि अलीगढ़ और दिल्ली से भी लोगों को लाया गया था.बाहरी महिलाएं भी आई थीं, जिन्होंने भीड़ को हिंसा के लिए उकसाया था.कुल मिलाकर कहा जाए तो उत्तर प्रदेश में शुक्रवार की हिंसा के पीछे के चेहरे बेनकाब हो रहे हैं.यह पता चला है कि बर्बर तरीके से आंदोलन करने की साजिश रची गई थी और उसके लिए देश के उन शहरों से एक खास समुदाय के युवाओं को लाया गया था, जहां पहले से हिंसा होती रही है.पश्चिम बंगाल से और भी कई लोगों के वहां पहुंचने की सूचना है, इसलिए पुलिस ने सतर्कता बरतनी शुरू कर दी है.पश्चिम बंगाल से उत्तर प्रदेश जाने वाली गाड़ियों में विशेष तौर पर तलाशी अभियान चलाने की योजना बनाई जा रही है.

पिछले शुक्रवार को पश्चिम बंगाल में भी हिंसा फैल गई थी.मालदा जिले में भी व्यापक तोड़फोड़ और आगजनी हुई थी.स्टेशनों पर आग लगा दी गई थी.दरअसल संशोधित नागरिकता अधिनियम और प्रस्तावित एनआरसी के खिलाफ देशभर में हिंसक आंदोलन होते जा रहे हैं.इसकी चपेट में पश्चिम बंगाल के साथ-साथ उत्तर प्रदेश, गुजरात, असम, त्रिपुरा, बेंगलुरु, बिहार है.

हिन्दुस्थान समाचार/ ओम प्रकाश

Breaking News: Citizenship Act Protest LIVE Updates | Latest News | Aaj Ka Taja Khabar

Leave a Reply

%d bloggers like this: