World Blood Day

रक्तदान को महादान कहा गया है. रक्त दान करना सिर्फ रिसीवर को ही नहीं बचाता, बल्कि डोनर को भी इसके कई फायदे होते हैं.

आज वर्ल्ड ब्लड डोनर डे के मौके पर हम आपको बताएंगे ब्ल्ड डोनेट करने के कई फायदों के बारे में.  साथ ही इससे जुड़ी कई अन्य जानकारियां भी.

14 जून को मनाते हैं ब्ल्ड डोनर डे

दुनिया भर में 14 जून को वर्ल्ड बल्ड डोनर डे मनाया जाता है. मेडिकल साइंस में नोबल प्राइज ले चुके वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन की याद में मनाया जाता है.

इस दिन को मनाने का खास उद्देश्य है कि ब्ल्ड डोनेशन को बढावा दिया जाए. वहीं इससे जुड़े कई नाकरात्मक बातों को भी दूर किया जाए.

बता दें कि कार्ल लैंडस्टाईन ने ही ब्लड ग्रुप की पहचान की थी. ब्लड ग्रूप को इस तरह से कैटेगरी में बांटना उनका मेडिकल साइंस में एक प्रमुख योगदान रहा है. इसी खोज के लिए उन्हें 1930 में नोबल प्राइज भी दिया गया था.

ये हैं ब्लड डोनेशन के फायदे

  • ब्लड डोनेट करने से हार्ट अटैक का खतरा बहुत कम हो जाता है. ब्लड डोनेट करने से खून का थक्का नहीं बन पाता. लगातार ब्लड डोनेट करने से ब्लड पतला रहता है.
  • ब्लड डोनेट करने से बॉडी वेट कम करने में भी मदद मिलती है. साल में कम से कम दो बार ब्लड डोनेट करना चाहिए.
  • ब्लड डोनेट करने से बॉडी में एनर्डी लेवल भी बना रहता है. इससे बॉडी भी तंदरूस्त रहती है.
  • रिसर्च के मुताबिक एक यूनिट ब्लड डोनेट करने से बॉडी में से 650 कैलोरिज कम हो जाती हैं.
  • ब्लड डोनेट करने से बॉडी को नुकसान नहीं होता है.
  • ब्लड डोनेट करने से लीवर भी अच्छा रहता है. इससे बॉडी में आयरन की मात्रा भी कंट्रोल में रहती है.
  • एक्सपर्ट्स का कहना है कि ब्लड डोनेट करने से कैंसर व दूसरी बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है.

1 COMMENT

Leave a Reply