बाबरी विध्वंस केस- लालकृष्ण आडवाणी ने CBI कोर्ट में दर्ज कराए बयान, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई पेशी

LK Advani
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी (LK Advani) ने अयोध्या का ढांचा गिराए जाने के मामले कि सुनवाई कर रही सीबीआई (CBI) की विशेष कोर्ट के सामने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपना बयान दर्ज कराए. लालकृष्ण आडवाणी का बयान सुबह 11:30 बजे से 3:30 बजे तक बयान दर्ज किया गया.

लालकृष्ण आडवाणी ने अयोध्या (Ayodhya) में विवादित ढांचा विध्वंस के प्रकरण में अपने ऊपर लगाए गए सभी आरोपों से इंकार किया. उन्होंने कहा उन पर इस मामले में जो भी आरोप लगाए गए वह सभी राजनीतिक कारणों से थे.

वहीं गुरुवार को नई दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मुरली मनोहर जोशी ने अपना बयान दर्ज कराया. विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव की अदालत में जोशी ने बयान दर्ज कराते हुए कहा कि उनके खिलाफ झूठा मुकदमा चलाया गया. वो अदालत में अपना सफाई साक्ष्य पेश करेंगे. जोशी ने अपने बयान में कहा उन्हें फर्जी फंसाया गया है.  

मुरली मनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi) से कुल 1050 प्रश्न पूछे गए लेकिन ज्यादातर सवालों के जवाब में उन्होंने मामले को राजनीति से प्रेरित होना बताया. कहा कि गवाहों ने झूठे बयान दर्ज कराए.

बाबरी मस्जिद ढहाये जाने के मामले में इस समय आरोपियों के बयान दर्ज किये जा रहे हैं. सभी 32 आरोपियों के बयान सीआरपीसी की धारा 313 के तहत दर्ज हो रहे हैं. सभी 32 आरोपियों का बयान दर्ज होने के बाद उन्हें अपनी सफाई और साक्ष्य पेश करने का मौका दिया जाएगा. 

6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिराए के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत को 31 अगस्त तक फ़ैसला सुनाना है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इस मामले की रोज़ाना सुनवाई की जा रही है.