पतंजलि ने आयुष मंत्रालय को सौंपी अपनी दवा की रिपोर्ट, बाबा रामदेव बोले- नफरत करने वालों के लिए घोर निराशा की खबर

Baba Ramdev
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

योगगुरू बाबा रामदेव (Baba Ramdev) ने जैसे ही कोरोना की आयुर्वेद के जरिए दवा बना लेने का ऐलान किया, पूरे देश-दुनिया में तहलका मच गया. बाबा रामदेव ने बकायदा एक प्रेस कांफ्रेंस करके पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) की कोरोना दवा को लॉन्च किया.

रामदेव की दवा पर आयुष मंत्रालय ने एक्शन लेते हुए इसके ट्रायल की पूरी रिपोर्ट मांगी थी. और दवा के प्रचार पर रोक लगा दिया था. जिसके बाद रामदेव ने आज (बुधवार को) को आयुष मंत्रालय को कंपनी की दवा पर अपनी रिपोर्ट सौंपी है.

पतंजलि की दवा की रिपोर्ट की जानकारी मिलने की बात खुद आयुष मंत्री श्रीपद नाईक ने ट्वीट कर दी. आयुष मंत्री ने कहा कि मंत्रालय रिपोर्ट पर गौर करेगा और फिर दवा पर कंपनी को अंतिम अनुमति देने के बारे में निर्णय करेगा.

श्रीपद नाईक ने कहा कि बाबा रामदेव ने एक नई दवा बनाई है. जिससे उन्होंने कोरोना का इलाज करने का दावा किया है. उन्होंने कहा कि आयुष मंत्रालय ने उनसे दवा की पूरी रिपोर्ट मांगी थी, जिसे उन्होंने मंत्रालय को सौंप दिया है.

आयुष मंत्री ने कहा कि मंत्रालय उनके दावों के बारे में शोध करेगा. उन्होंने कहा कि हम इसके बारे में तभी बोल पाएंगे, जब हम दावों को प्रमाणीकरण कर लेंगे. वहीं बाबा रामदेव ने एक ट्वीट करके विरोधियों पर निशाना साधा है.

रामदेव ने विरोधियों पर साधा निशाना

बाबा रामदेव ने अपने ट्वीट में आयुष मंत्रालय का पत्र भी शेयर किया है. आयुष मंत्रालय ने इस पत्र में कहा है कि उसे दवा के क्लीनिकल ट्रायल से संबंधित सभी दस्तावेज मिल गए हैं.

रामदेव ने अपने ट्वीट में लिखा कि आयुर्वेद का विरोध एवं नफरत करने वालों के लिए घोर निराशा की खबर. इस ट्वीट के साथ उन्होंने आचार्य बालकृष्ण के ट्वीट को भी लगाया है. जिसमें आयुष मंत्रालय का पत्र है.