कोरोना के खिलाफ पतंजलि का रामबाण, रामदेव ने लॉन्च की COVID-19 की आयुर्वेदिक दवा

Baba Ramdev
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोरोना वायरस से आज पूरी दुनिया परेशान हो रही है. दुनिया के तमाम देश इस वायरस की वैक्सीन बनाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन अभी तक कामयाबी नहीं हासिल नहीं हुई है. इस बीच पतंजलि के इस वायरस की आयुर्वेद के माध्यम से दवा बना लेने का दावा किया है.

योग गुरू बाबा रामदेव ने आज (मंगलवार को) इस वायरस की दवा को लॉन्च किया. उन्होंने कोरोनिल टेबलेट से कोरोना के मरीजों के ठीक होने का दावा किया. रामदेव ने कहा कि कोरोना की दवा पर दो बार ट्रॉयल हुआ है. रामदेव ने कहा कि 100 लोगों पर दवा का क्लीनिकल ट्रॉयल किया गया है.

बाबा रामदेव ने कहा कि दवा परीक्षण के तीन दिन के भीतर 69 फीसद रोगी रिकवर हुए हैं. उन्होंने कहा कि सिर्फ 7 दिन के भीतर 100 फीसद ठीक हुए और उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है.

रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद से बनी इस दवाई को अगले सात दिनों में पतंजलि के स्टोर से लिया जा सकता है, इसके अलावा सोमवार को एक ऐप लॉन्च किया जाएगा जिसकी मदद से ये दवाई घर पर पहुंचाई जाएगी.

बाबा रामदेव ने दवा को लॉन्च करते वक्त एक प्रेस कांफ्रेंस की. जिसमें आचार्य बालकृष्ण भी मौजूद रहे. प्रेस कांफ्रेंस में बाबा रामदेव ने कहा कि पूरी दुनिया और देश जिस पल की प्रतीक्षा कर रहा था, आज हम ये घोषणा करते हैं कि कोरोना की दवा तैयार हो गई है. दवा को लॉन्च करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि मेडिसिन इंडस्ट्री को आज एलोपैथिक सिस्टम लीड कर रहा है. उन्होंने कहा कि हमने आयुर्वेद से इस वायरस की दवा बनाई है.

आयुर्वेद से बनी है दवा

बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोना के लिए श्र्वासारी बटी, दिव्य कोरोनिल टेबलेट और अणु तेल को लॉन्च किया. इन सभी का एक साथ प्रयोग करना होगा. रामदेव ने दावा किया कि इस दवा का सिर्फ 14 दिन सेवन करके कोरोना से मुक्ति पाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि सिर्फ 7 दिन दवा का इस्तेमाल करते ही असर दिखने लगेगा.

बाबा रामदेव ने कहा कि इस दवाई को बनाने में सिर्फ देसी सामान का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें मुलैठी-काढ़ा समेत कई चीजों का इस्तेमाल किया गया है. साथ ही गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी इस्तेमाल किया गया है.