CJI ने UP के DGP के साथ की बैठक, सुरक्षा इंतजामों पर हुई चर्चा

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी और पुलिस महानिदेशक (DGP) ओपी सिंह के साथ बैठक खत्म हो गई है. दोनों के बीच करीब एक घंटे बैठक चली. बैठक के दौरान अयोध्या मामले की सुनवाई करने वाली संविधान बेंच के दूसरे सदस्य जज मौजूद थे.

बैठक में जजों ने उत्तर प्रदेश में सुरक्षा इंतजामों की जानकारी ली. जजों ने दोनों अधिकारियों से ये जानना चाहा कि उन्हें कोर्ट से किस तरीके की मदद की उम्मीद है.

चीफ जस्टिस ने दोनों अधिकारियों को अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले को लेकर मिलने के लिए बुलाया था. अयोध्या मामले पर 13 से 15 नवम्बर के बीच कभी भी फैसला आ सकता है.

DGP ने दी सुरक्षा की जानकारी

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने अयोध्या विवाद पर फैसले से पहले प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था के चाक-चौबंद इंतजाम करने की बात कही. उन्होंने कहा कि प्रदेश और खास तौर पर अयोध्या में विशेष सतर्कता बरती जा रही है.

उन्होंने कहा कि सुरक्षा के मद्देनजर सोशल मीडिया पर पैनी नजर रखी जा रही है. करीब 1 हजार 659 लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट्स की निगरानी की जा रही है. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो इंटरनेट सेनाओं को सस्पेंड भी किया जा सकता है.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के मद्देनजर प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को कानून-व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिए हैं. यूपी के डीजीपी ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर तकरीबन 500 लोगों को हिरासत में लेने की बात कही है.

सीएम योगी ने सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की

मुख्यमंत्री ने गुरुवार को लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंडलों एवं जनपदों के वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को ये निर्देश दिए. उन्होंने अयोध्या सहित प्रदेश के अन्य जनपदों में कानून व्यवस्था की समीक्षा की. उन्होंने प्रदेश स्तर पर और प्रत्येक जनपद में एक नियंत्रण कक्ष स्थापित कर तुरन्त संचालित करने के निर्देश दिए. ये नियंत्रण कक्ष 24 घण्टे लगातार कार्य करेंगे.

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Comment

%d bloggers like this: