हाथरस कांडः राजनीतिक दलों का मोहरा बनकर रह गया पीड़िच परिवार, सुरक्षा बनी जी का जंजाल

Hathras Case
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

हाथरस कांड पर राजनीति अपने चरम पर है. विपक्ष इस केस के बहाने अपनी राजनीति चमकाने में लगा है. जबकि सरकार अपनी छवि सुधारने में लगी है. लेकिन इस सबके बीच पीड़ित परिवार पिसता जा रहा है.

पीड़ित परिवार ने हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की है. जिसमें उसने अपनी सुरक्षा में छूट देने की मांग की है. पीड़ित परिवार की ओर से ये याचिका एक सामाजिक कार्यकर्ता ने दायर की है. याचिका में कहा गया है कि पीड़ित परिवार की सुरक्षा में ढील दी जाए.

याचिका में कहा गया है कि प्रशासन के घेरे में रहने के कारण पीड़ित परिवार अपने घर में कैद हो कर रह गया है. उससे लोग मिलने नहीं आ पाते हैं. ना ही वो किसी से खुलकर बात कर पाता है. परिवार की सुरक्षा के नाम पर उसे बंधक बना लिया गया है.

वहीं इससे पहले पीड़ित परिवार ने अपनी सुरक्षा की चिंता जताई थी. पीड़ित परिवार ने कहा था कि गांव में उसके परिवार को खतरा हो सकता है. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने भी पीड़ित परिवार की सुरक्षा को लेकर योगी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जायजा मांगा है.

इस केस में रात को पीड़िता का दाह संस्कार कराने से सरकार पहले से बैकफुट में हैं. इसलिए अब पीड़ित परिवार की सुरक्षा को लेकर सरकार कोई कोताही नहीं बरत रही है. इसीलिए पीड़ित परिवार के हर सदस्य की सुरक्षा के लिए 2 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं.

इसके अलावा घर के एंट्री गेट में मेटल डिटेक्टर लगाया गया है. हर आने-जाने वाले का नाम एक रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है. इतना ही नहीं गांव में भारी सुरक्षा बल तैनात है. गांव की गलियों में सीसीटीवी कैमरे लगा दिए गए हैं. जिससे हर आने-जाने वाले की गतिविधि पर नजर रखी जा सके.

पीड़िता का भाई भी संदेह के घेरे में

इस केस में जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, हर रोज नए खुलासे भी हो रहे हैं. मृतका के भाई और आरोपी के बीच फोन कॉल की सीडीआर वायरल हो रही है. सोशल मीडिया में ऑनर किलिंग की बात भी खूब वायरल हो रही है. पुलिस इस एंगल की भी जांच कर रही है. वहीं मृतका के भाई ने इस मामले पर सफाई पेश की है.

मृतका के भाई के अनुसार उसकी आरोपियों से कभी आमने-सामने भी बात नहीं हुई है. मृतका के भाई के अनुसार बहन परिवार के संरक्षण में रहती थी. आरोपियों से उसका कोई संबंध नहीं था. साथ ही उसने भी आरोपियों से कभी बात नहीं की है. मृतका के भाई ने बताया कि घर में एक ही फोन है, और वो भी पिता के पास ही रहता है.