राजस्थान: कांग्रेस में शांति और भाईचारा बरकरार, हमारे विधायक हमारे साथ-गहलोत

Gehlot-Pilot
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. सचिन पायलट ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात की. कांग्रेस की ओर से एक कमेटी का गठन किया गया है, जो कि सचिन पायलट की सभी समस्याओं का समाधान करेगी. इन वादों के साथ ही पायलट मान गए हैं और जल्द ही वो कांग्रेस में किसी बड़े पद पर दिखाई दे सकते हैं.

सचिन पायलट और अशोक गहलोत दोनों ने ही समिति गठन करने के फैसले का स्वागत किया है. गहलोत ने जहां इस निर्णय का स्वागत किया तो दूसरी ओर पायलट ने भी अपना रुख नरम करते हुए कहा राजनीति में व्यक्तिगत शत्रुता की कोई जगह नहीं है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी में शांति और भाईचारा बना रहेगा. साथ ही उन्होंने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि ‘राज्य सरकार को गिराने की पूरी कोशिश’ की गई थी. बीजेपी को मुंह की खानी पड़ी है. अब संकट लोकतंत्र को बचाने का है. ईडी आयकर, सीबीआई का दुरुपयोग चुन-चुनकर और बेशर्मी से हो रहा है.

गहलोत ने कहा है कि पार्टी में भाईचारा बरकरार है. तीन सदस्यों की कमेटी बनाई गई है, जो सभी विवादों को सुलझाएगी. हमारे विधायक एक साथ हैं और एक भी व्यक्ति हमें छोड़कर नहीं गया.

वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के साथ पैच-अप वार्ता के तुरंत बाद, सचिन पायलट ने सोमवार रात कहा कि सीएम अशोक गहलोत के साथ उनकी लड़ाई सैद्धांतिक थी. कभी किसी पद के लिए नहीं थी. इससे पहले देर रात सचिन पायलट ने ट्वीट कर सोनिया, राहुल, प्रियंका गांधी सहित कांग्रेस नेताओं को धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा कि वह राजस्थान की जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए खड़े हैं.