Birthday Special: आज भी दिलों पर राज करती हैं सुरों की मल्लिका

नई दिल्ली: अपनी आवाज के जादू से लाखों दिलों पर राज करने वालीं सुरों की रानी आशा भोंसले 8 सितंबर को अपना 86वां जन्मदिन मना रही हैं. 12 हजार से ज्यादा गानों को आवाज दे चुकीं आशा भोंसले मशहूर क्लासिकल सिंगर दीनानाथ मंगेशकर की बेटी हैं.

आशा ताई सुरों की कोकिला लता मंगेशकर की छोटी बहन हैं. आशा ताई ने बड़ी बहन की जिम्मेदारियों को कम करने के लिए 10 साल की उम्र में ही गाना शुरू कर दिया था. मशहूर गायिका आशा का जन्म आज ही के दिन 1933 में महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव सांगली में हुआ था.

आशा भोंसले को शायद कभी इस बात का इल्म भी नहीं था कि उनकी आवाज को एक दिन सारी दुनिया सलाम करेगी. आशा भोंसले ने अपना पहला गाना 1943 में 10 साल की उम्र में मराठी फिल्म ‘माझा बाला’ में ‘चला चला नव बाला…’ गा कर गायन की दुनिया में अपना कदम रखा था.

आशा ने बॉलीवुड में साल 1948 में हंसराज बहल की फिल्म चुनरिया का ‘सावन आया’ गाया था. साल 1997 में उस्ताद अली अकबर खान के साथ एक विशेष एल्बम के लिए ‘ग्रेमी अवार्ड’ के लिए नामांकित की गईं.

आशा ने 12 हजार से ज्यादा फिल्मी और गैर फिल्मी गीत गाए हैं. हिंदी के अलावा उन्होंने मराठी, बंगाली, गुजराती, पंजाबी, भोजपुरी, तमिल, मलयालम, अंग्रेजी और रूसी भाषा में भी बहुत से गीत गाए हैं.

खनकती आवाज की मल्लिका आशा भोंसले ने बॉलीवुड के प्लेबैक सिंगर को नई ऊंचाई दी. उन्होंने गाये गीत बेहद मशहूर हुए हैं. आशा भोंसले हमेशा से बिंदास और बागी तेवरों वाली रही हैं. यही वजह रही कि घरवालों की मर्जी के बिना उन्होंने 16 साल की उम्र में गणपतराव भोंसले के साथ शादी की, लेकिन सब कुछ सही नहीं चला और कुछ समय बाद वे घर वापस लौट आईं. उस समय तक उनके तीन बच्चे थे.

उन्होंने पंचम दा के नाम से मशहूर म्यूजिक डायरेक्टर आरडी बर्मन से 1980 में शादी की. दोनों की ही ये दूसरा शादी थी. दोनों की जुगलबंदी ने ढेर सारे हिट गाने दिए हैं. आशा ताई को अब तक फिल्मफेयर अवार्ड में सात बेस्ट फीमेल प्लेबैक पुरस्‍कारों से नवाजा गया है.

उन्‍हें दो राष्ट्रीय फिल्म पुस्कारों से भी सम्मानित किया गया है. आशा भोंसले को 2008 में तत्‍कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया था.

हिन्दुस्थान समाचार/विनय कुमार

Leave a Reply

%d bloggers like this: