चीन से तनातनी के बीच म्यांमार पहुंचे सेना प्रमुख, पूरी दुनिया में चीन को घेरने की कोशिश

General MM Naravane in Myanmar
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत ने पड़ोसी देश म्यांमार को साधने की कोशिश की है. इसके लिए थल सेना प्रमुख 2 दिवसीय दौरे पर म्यांमार पहुंच चुके हैं. सेना प्रमुख का पद संभालने के बाद जनरल नरवाने की ये पहली विदेश यात्रा है.

म्‍यांमार और भारत के रिश्‍तों की बात करें तो ये काफी पुराने रहे हैं. यही वजह है कि जवाहर लाल नेहरू से लेकर नरेंद्र मोदी तक लगभग सभी प्रधानमंत्रियों ने म्‍यांमार की यात्रा की. ये ऐसा देश है जो भारत के साथ-साथ चीन का भी पड़ोसी है. इस देश को साधकर भारत चीन पर दबाव बना सकता है.

भारत म्यांमार के साथ सुरक्षा सहयोग बढ़ाने के अलावा तटीय जहाजरानी समझौते भी कर सकता है. इससे बंगाल की खाड़ी पर बने सितवे बंदरगाह और कलादान नदी पर बन रही बहुपक्षीय मॉडल लिंक परियोजना से होकर गुजरने वाले भारतीय जहाज आसानी से मिजोरम पहुंच सकेंगे.

इन सब पर मुहर लगाने के लिए सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे और विदेश सचिव हर्षवर्धन शृंगला म्यांमार गए हुए हैं. सेना प्रमुख की इस यात्रा से पहले विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि म्यांमार के साथ संबंधों को बढ़ावा देना भारत की प्राथमिकता में है. भारत इस मामले में पड़ोस पहले और एक्ट ईस्ट की नीति अपनाता रहा है.

भारत ने म्यांमार को कोरोना की दवाएं दीं

कोरोना महामारी से निपटने के लिए भारत ने म्यांमार की मदद की है. इस महामारी से बचने के लिए भारत ने म्यांमार को 3 हजार रेमडेसिवीर दवा की शीशियां सौंपी है. सेना प्रमुख ने दवाओं के ये बंडल स्टेट काउंसलर आंग सान सू सौंपी. इस दौरान विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला भी मौजूद रहे.

भारतीय दूतावास ने ट्वीट कर कहा कि मित्र पड़ोसी के देश को कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहयोग देने के लिए विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और सेनाध्यक्ष नरवणे ने रेमडेसिवीर की 3000 शीशियां काउंसलर आंग सान सू की को सौंपी.

सेना प्रमुख एमएन नरवणे और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला दो दिवसीय यात्रा पर म्यांमार में हैं. इस दौरान स्टेट काउंसलर आंग सांग सू की सहित शीर्ष राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व से मुलाकात होनी है. इस यात्रा से दोनों देशों के वर्तमान द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा होगी और आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रों में सहयोग को मज़बूती मिलेगी.

हिन्दुस्थान समाचार/अनूप