Asaduddin Owaisi की टोकाटोकी पर भड़के गृहमंत्री Amit Shah, बोले- सुनने की आदत डालें

लोकसभा (Lok Sabha) में आज (सोमवार को) उस वक्त हंगामा मच गया, जब गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) को बार-बार टोकने के लिए नाराजगी जताई.

गृहमंत्री शाह ने कहा कि मेरा सिर्फ यह कहना है कि अगर आप मुद्दे को लेकर सवाल खड़े करते हो तो फिर मापदंड अलग-अलग क्यों? जब ए राजा साहब बोलते हैं तो आप चुपचाप सुनते रहते हैं भले ही वो नियमों के विरुद्ध हो लेकिन जब सत्यपाल सिंह (Satyapal Singh) बोल रहे हैं तो आप बीच-बीच में टीका-टिप्पणी कर रहे हैं. मेरी इतनी ही बात है. डराने का कोई सवाल नहीं है लेकिन डर अगर आपके ज़ेहन में पड़ा है तो मैं क्या कर सकता हूं.

दरअसल लोकसभा में आज (सोमवार को) राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NIA) को अधिक ताकत देने वाला संशोधन बिल पेश किया गया. इस बिल पर बीजेपी सांसद सत्यपाल मलिक बोल रहे थे, तब AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी बार-बार बीच में बोल रहे थे. जिसपर गृहमंत्री ने उनको शिष्टाचार का पाठ पढ़ा दिया. जिसके बाद सदन में काफी हंगामा हुआ.

गृहमंत्री के इस बयान पर पलटवार करते हुए ओवैसी ने कहा कि मुझे डर लगता है. तब अमित शाह ने जवाब दिया कि अगर आपके अंदर डर बैठा है तो हम क्या कर सकते हैं.

NIA संशोधित बिल पर जब सोमवार को लोकसभा में चर्चा शुरू हुई तो चर्चा के दौरान मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर और बीजेपी सांसद ने सत्यपाल सिंह ने कहा कि आतंकवाद इसलिए फल-फूल रहा है क्योंकि हम उसे राजनीतिक चश्मे से देखते हैं जबकि हमें उससे मिलकर लड़ना चाहिए. उन्होंने कहा कि मुंबई ने आतंकवाद को खूब झेला है क्योंकि वहां भी इसे राजनीतिक आईने में देखा गया.

एनआईए बिल पर बोलते हुए डीएमके सांसद डी राजा ने कहा कि टू जी केस में मैंने तो खुद झेला है. मेरे खिलाफ जांच हुई, आरोपी बनाया गया और मुझे 7 साल इंतजार करना पड़ा, उन्होंने कहा कि सीबीआई ने 15 दिन मुझसे पूछताछ की और बाद में पाया कि राजा न सिर्फ बेकसूर है बल्कि उसने जो किया वह भी सही है. उन्होंने कहा कि कानून का गलत इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, हमारे सामने टाडा और पोटा जैसे उदाहरण सामने हैं.

1 thought on “Asaduddin Owaisi की टोकाटोकी पर भड़के गृहमंत्री Amit Shah, बोले- सुनने की आदत डालें”

Leave a Reply