रामजन्मभूमि पर आएगा अनुकूल निर्णय, 17 नवंबर को फैसले के बाद देश में फिर मनेगी दिवाली-आलोक कुमार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर. विश्व संवाद केंद्र नई दिल्ली द्वारा विश्व हिंदू परिषद के तत्वावधान में पत्रकार दिवाली मिलन समारोह का आयोजन किया गया.

इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार ने कहा कि कितनी सारी पीढ़िया लग गईं राम मंदिर के निर्माण में. अपनी ही अयोध्या में राम मंदिर के जन्मस्थान पर बाबर का बनाया हुआ ढांचा रहा.

ढांचा टूटने के बाद अब तक भगवान राम टेंट में हैं. लेकिन अब 40 दिन और 200 घंटे से ज्यादा की बहस के बाद फैसला आने वाला है. पहले इतनी तेज गति से कोई सुनवाई नहीं हुई. बहस अच्छी हुई है. ठोस प्रमाण प्रस्तुत किए गए हैं.

हम विश्वास करते हैं कि 27 अक्टूबर के बाद जब 17 नवंबर को फैसला आएगा तो एक बार फिर से हमको दिवाली मनाने का अवसर मिलेगा. रामजन्मभूमि पर अनुकूल निर्णय आएगा और भव्य राम मंदिर निर्माण का रास्ता खुलेगा. मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन द्वारा सुप्रीम कोर्ट में रामजन्मभूमि का नक्शा फाड़ने पर उन्होंने कहा कि एक हताश आदमी अपने बाल नोचता है.

उन्होंने अपने बाल नोचे और पवित्र रामजन्मभूमि का नक्शा फाड़ा. उस दिन वह ज्यादा उत्तेजित थे. मैं समझता हूं कि जो व्यक्ति ज्यादा उत्तेजित होता है वह यह समझ लेता है कि उसका तर्क कमजोर है.

इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के संयुक्त महामंत्री सुरेंद्र जैन और वरिष्ठ पत्रकार जवाहरलाल कौल सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे. इस दौरान हिन्दू विश्व पत्रिका के दीपावली पर विशेष नवजागरण अंक का भी विमोचन किया गया.

Leave a Comment

%d bloggers like this: