Aligarh Murder Case: आपसी रंजिश का शिकार हुई थी तीन साल की मासूम, दो गिरफ्तार
  • तीन साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या कर दी गई और फिर क्षत-विक्षत शव को कूड़े में फेंक दिया गया था
  • बच्ची के साथ हुई हत्या के मामले में पुलिस ने कहा, ‘हम इस मामले की जांच राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत करेंगे और इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजेंगे

नई दिल्ली. अलीगढ़ का टप्पल थाना इस समय चर्चा का विषय बना हुआ है. इस मामले ने सबको हिला कर रख दिया है. तीन साल की बच्ची की हत्या से पूरे देश में हडकंप मचा हुआ है. मामला मीडिया में आने के बाद इस मामले में तेजी आई है.

टप्पल इलाके में बच्ची के साथ हुई हत्या के मामले में पुलिस ने कहा, ‘हम इस मामले की जांच राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत करेंगे और इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजेंगे.’ यहां एक करीब तीन साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या कर दी गई और फिर क्षत-विक्षत शव को कूड़े में फेंक दिया गया था.

बच्ची के साथ हुई हत्या के मामले में पुलिस ने कहा, ‘हम इस मामले की जांच राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत करेंगे और इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजेंगे.’ 31मई को मासूम बच्ची लापता हुई थी. बच्ची के लापता होने के बाद परिजनों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी. पांच दिन बाद बच्ची का शव कूडे के ढेर पर मिला. इस मामले में सिनेमा जगत ने भी आक्रोश जताया है. वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है.

अलीगढ़ के टप्पल इलाके में ढाई साल की बच्ची की निर्मम हत्या के मामले में SSP आकाश कुलहरि ने शुक्रवार को इंस्पेक्टर केपी सिंह चहल सहित 5 पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि इन पर गुमशुदगी देरी से लिखने के अलावा, बच्ची की खोज में और हत्या होने पर आरोपियों की गिरफ्तारी में लापरवाही का आरोप है.

मामले में पुलिस ने अब तक 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की जाएगी.

आकाश कुलहरि ने बताया कि नितर्वमान इंस्पेक्टर टप्पल कुशलपाल सिंह चहल, थाने के तीन सब इंस्पेक्टर सत्यवीर सिंह, अरविंद कुमार, शमीम अहमद व सिपाही राहुल यादव को निलंबित किया गया है.

इस केस में आरोपी जाहिद और असलम को पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है. बताया जा रहा है कि जाहिद और मृतक बच्ची के पिता के बीच पैसे के लेन-देन को लेकर विवाद हुआ था. पैसे के लेन-देन को लेकर दोनों के बीच कहासुनी हुई.

इस छोटी सी उम्र में जब बच्ची सबको अच्छे से पहचान भी नहीं पाती उस उम्र में वो उन लोगों की दरिंदगी का शिकार बन गई जो किसी भी व्यक्ति के पैरों तले से जमीन खिसका देगी. वो भी महज रुपयों के लिए. उस बच्ची का क्या कसूर था जो उसके साथ ये जघन्य अपराध किया गया.

पिता के लेन-देन का खामियाजा उस बच्ची को इस नृशंस हत्या के जरिए भुगतना पड़ा. आरोप है कि दरिंदों ने पहले उसके हाथ पैर काटे. फिर उसके शव को जलाने की कोशिश की. जब शव जला भी नहीं था तो उसके अधजले शव को कूड़े के ढेर में फेंक दिया गया. उस ढेर में पड़ी बच्ची का शव जानवर नोंच-नोंच कर खा रहे थे.

सुबह आसपास के लोगों ने देखी कि कूड़े के ढेर पर कुत्तों का जमघट लगा हुआ है तो पास जाने पर पता चला की कुछ मांस के टुकड़े पड़े हुए थे. फिर इसकी जानकारी पुलिस वालों को दी गई..

बताया जा रहा है कि उस बच्ची के साथ रेप भी किया गया था. बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी आ गई है लेकिन रेप की पुष्टि नहीं हुई है. इस घटना के बाद आसपास के लोगों में गुस्सा फैल गया है. बताया जा रहा है कि बच्ची की हत्या गला दबाकर की गई है. ये भी बताया जा रहा है कि आरोपी लोग एक विशेष समाज के हैं.

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक टप्पल क्षेत्र के बूढ़ा गांव निवासी की 3 साल की बेटी करीब 4 दिन से मिल नहीं रही थी और परिजनों ने बच्ची के गुम होने की रिपोर्ट स्थानीय टप्पल थाने में लिखाई. इसके बाद 2 जून को सुबह गांव के कुछ लोगों को एक कूड़े के ढेर के पास कुत्ते कुछ मांस जैसा खाते नजर आए. पास जाकर लोगों ने देखा तो ये एक बच्ची का शव था.

उसके हाथ- पैर शरीर से अलग पड़े थे. लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. तब तक राकेश के परिजनों ने बच्ची के शव को पहचान लिया. इसके बाद लोगों ने एक संप्रदाय विशेष के लोगों के खिलाफ गुस्सा जताना शुरू कर दिया.

Trending Tags: Aligarh murder case | Crime report | Crime news | Murder| Aaj ka samachar

Leave a Comment

%d bloggers like this: