नहीं कर रहा था सरेंडर, सेल्फ डिफेंस में यूपी STF ने विकास दुबे को मारा-ADG ने बताई एनकाउंटर की कहानी

नई दिल्ली. गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के अपराध का अंत हो गया. शुक्रवार सुबह यूपी पुलिस ने उसे एनकाउंटर (Encounter) में मार गिराया. इसके बाद से पुलिस की मीडिया ब्रीफिंग का इंतजार हो रहा था. इसी के चलते उत्तर प्रदेश के एडीजी (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने मीडिया से बात की.

विकास दुबे के एनकाउंटर की कहानी बताते हुए एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि कैसे सड़क हादसे के बाद विकास दुबे ने भागने की कोशिश और कैसे वो पुलिस की गोलियों का शिकार हो गया.

प्रशांत कुमार (Prashant Kumar) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि कानपुर के पास सुबह 6.30 बजे के करीब पुलिस का वाहन पलट गया. जिसके बाद वो हथियार छीन कर भागने की कोशिश करने लगा तो पुलिसकर्मियों ने उसे आत्म समर्पण (Surrender) करने के लिए कहा लेकिन विकास दुबे ने जान से मारने के लिए पुलिस टीम पर फायरिंग की. जिसके बाद सेल्फ डिफेंस में यूपी एसटीएफ ने उसे मारा, फिर उसे हॉस्पिटल ले जाया गया जहां डॉक्टरों उसे ने मृत घोषित कर दिया.

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस घटना में चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. मामले में 21 अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था जिसमें से 3 लोग गिरफ्तार किए गए हैं और छह मारे जा चुके हैं, सात जेल जा चुके हैं.

ए़डीजी ने बताया कि कानपुर (Kanpur) में 8 पुलिसकर्मियों के शहीद होने के मामले में कुल 76 लोगों के खिलाफ आरोप है, जिनमें से 12 लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है.

गुरुवार (9 जुलाई) को विकास दुबे मध्य प्रदेश के उज्जैन महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया था. मध्य प्रदेश से उसे कानपुर लाया जा रहा था. रास्ते में पुलिस की गाड़ी पलट गई. इस दौरान विकास ने भागने की कोशिश की और वो पुलिस एनकाउंटर में मारा गया.

Leave a Reply

%d bloggers like this: