अगर किया ये काम तो बुरे फंसेंगे नेताजी….

नई दिल्ली. भारतीय चुनाव आयोग ने आचार संहिता उल्लंघन करने वालो के खिलाफ अब एक ऐसी तकनीक बनाई है. जिससे नेजाती बुरे फंस सकते है. चुनाव आयोग ने एक ऐसा ऐप एंड्रॉएड फोन में दिया है जिससे आम लोग आसानी से आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी चुनाव आयोग तक दे पाएगें.

सिटीजन विजिल ऐप के जरिए की जाएगी शिकायत
लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत दर्ज करने के लिये चुनाव आयोग ने सिटीजन विजिल ऐप लॉन्च किया है. इसमे अब आम लोग भी आचार संहिता उल्लंघन के खिलाफ शिकायते दर्ज कर पाएंगे.

मिलीं 2,859 शिकायतें
मुख्य चुनाव अधिकारी संजय बसु ने गुरुवार को बताया कि अभी तक राज्य में ऐप के माध्यम से 2,859 शिकायतें मिली हैं. जिस पर चुनाव आयोग ने सभी शिकायतो पर कार्यवाही की. जिनमें से मात्र 20 का निपटारा बाकी है.

सरकारी योजनाओं को अनुमति देने संबंधी जानकारी भी अपडेट की जायेगी. ऐप उम्मीदवारों की सुविधा के लिए भी बनाया गया है. जिसके जरिए जुलूस, वाहन, रैली कैंप कार्यालय खोलने आदि के लिए मंजूरी भी ऑनलाइन मिल जाएगी. यानी नेताओं को चुनाव अधिकारियों के दफ्तर के चक्कर अब नही लगाने होगें.

पहले नही थी ऐसी कोई सुविधा
बसु ने बताया कि पहले ऐसी कोई व्यवस्था नहीं थी जिससे आचार संहिता उल्लंघन के खिलाफ की गयी कार्रवाई को सार्वजनिक किया जा सके. लेकिन अब इसे अपडेट कर दिया गया है.

इसमें शिकायतों पर की गयी कार्रवाई के संबंध में भी जानकारी अपलोड की जायेगी. इसके अलावा सभी कार्यों को आयोग की वेबसाइट पर अपडेट किया जायेगा, जिसे ऐप के लिंक से एक्सेस किया जा सकता है.

अब सार्वजनिक होगीं सभी शिकायतें
नयी प्रणाली के मुताबिक सभी राज्य या केन्द्रीय स्तर के राजनीतिक नेताओं के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के बारे में शिकायतों की स्थिति दोपहर 12 से शाम 4:00 बजे के भीतर अपलोड की जायेगी.

मुख्य चुनाव अधिकारी का कार्यालय भारतीय चुनाव आयोग को सिफारिशें आगे बढ़ाएगा और शाम 6 बजे तक आयोग अपने निर्णय या उन कार्रवाईयों की जानकारी को अपलोड करेगा, जो शिकायतों के संबंध में उठाये गये हैं. उन्हें वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा ताकि कोई भी जानकारी प्राप्त कर सके.

मधुकर वाजपेयी / Madhukar Vajpayee

%d bloggers like this: