विश्व पर्यावरण दिवस पर सद्बुद्धि महायज्ञ करेंगे विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता

बेगूसराय, 01 जून (हि.स.). छात्र, बेरोजगार और किसानों के मुद्दे को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद जोरदार आंदोलन शुरू कर रहा है. आंदोलन की शुरुआत तीन जून से होगी. यह निर्णय सोमवार को विद्यार्थी परिषद बेगूसराय जिला इकाई द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला प्रमुख विजेन्द्र कुमार के आवास पर आयोजित बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता कर रहे अजीत चौधरी ने बताया कि बिहार सरकार द्वारा माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) का परिणाम रद्द करने, छात्रों के रूम रेंट माफ करने, निजी शिक्षण संस्थाओं के शिक्षण शुल्क पर विचार नहीं करने, कोचिंग संस्थानों को खोलने, कसहा दियारा उपजाऊ भूमि अधिग्रहण मामलों में किसानों को उसका हक दिलाने तथा अन्य शैक्षणिक मुद्दों को लेकर विद्यार्थी परिषद चरणबद्ध तरीके से आंदोलन करेगी. बिहार सरकार के तानाशाही, हिटलरशाही और अदूरदर्शिता पूर्ण हठधर्मी के खिलाफ आंदोलन के लिए प्रदेश एवं जिला स्तरीय आंदोलन समिति बनाया गया है. 

जिला प्रमुख विजेन्द्र कुमार ने कहा कि तीन जून को पूछता है बिहार कार्यक्रम के तहत संपर्क अभियान चलाकर छात्र-छात्राओं से शैक्षणिक मुद्दों पर सवाल पूछा जाएगा. विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पांच जून को बिहार सरकार के सद्बुद्धि केे लिए सद्बुद्धि महायज्ञ किया जाएगा. आठ जून को विभिन्न इकाई के द्वारा मांग पत्रों की कॉपी सरकार को ईमेल किया जायेगा. इसके बाद 11 जून को सरकार को खुला पत्र तथा 13 जून को स्थानीय जनप्रतिनिधियों को मांग पत्र सौंपा जायेगा. 15 जून को स्थानीय शिक्षण संस्थानों के गेट पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए विरोध प्रदर्शन होगा. मौके पर उपस्थित प्रदेश कार्यकारणी सदस्य सोनू सरकार ने कहा कि दो माह से अधिक दिनों से शैक्षणिक गतिविधियां पूरी तरह से ठप है. जिससे एक ओर जहां छात्रों के बीच अपने पठन पाठन एवं भविष्य को लेकर अनिश्चितता है. दूसरी ओर कोचिंग संचालक एवं उनके आश्रित परिवार को अपना जीवन बचाना मुश्किल हो रहा है. लंबे समय से कोचिंग बंद रहने से भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो चुका है. 

हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/चंदा

Leave a Reply

%d bloggers like this: