आप-कांग्रेस गठबंधन और अटकलें

दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठजोड़ की अटकलों से पंजाब और हरियाणा में समीकरण बदलते नर आ रहे हैं. हालांकि पंजाब और हरियाणा में कांग्रेस पार्टी हाई कमान को अपने बलबूते पर लोकसभा चुनाव लड़ने का सुझाव दे चुकी है.

कांग्रेस के नेता हुए निराश

दोनों दलों की ताजा बैठक को लेकर पंजाब और हरियाणा कांग्रेस के कई नेता निराश हैं. आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई ने भी इस नई तब्दीली की सम्भावना को लेकर दोपहर बाद बैठक करने का निर्णय लिया है.

‘आप’ ने 8 प्रत्याशियों के नाम का किया ऐलान

पंजाब में कांग्रेस ने 13 में से अपने 6 उमीदवार और आम आदमी पार्टी ने अपने 8 प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया है. हालांकि दोनों ही पार्टियों के नेता अपने उम्मीदवारों के न बदले जाने की बात कर रहे हैं पर कोई भी इस बात को विश्वास से कहने की स्थिति में नहीं है.

‘आम’ और कांग्रेस का गठबंधन

करीब दो महीनो से दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में कांग्रेस की आप पार्टी से गठजोड़ की बातें चली आ रही हैं लेकिन इस बात पर अभी तक मोहर नहीं लगी. शायद यही कारण था कि पंजाब में ‘आप’ ने कांग्रेस के अलावा अन्य दलों से गठजोड़ की बात तो की लेकिन किसी बात का एलान नहीं किया.

केजरीवाल ने मांगा कांग्रेस का साथ

‘आप’ के संयोजक अरविंद केजरीवाल हरियाणा को लेकर कह चुके हैं कि अगर कांग्रेस साथ दे तो गठजोड़ करके हरियाणा की सभी 10 सीटें पर जीत हासिल की जा सकती है.

हाईकमान लेगी गठबंधन का फैसला

पार्टी हाई कमान को पंजाब कांग्रेस इकाई ने अपनी राय से अवगत करा दिया था कि पार्टी पंजाब में अपने बलबूते पर सभी 13 सीटें जीतने का दम रखती है और ‘आप ‘ से गठजोड़ पर नुकसान हो सकता है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पंजाब में किसी से गठजोड़ नहीं चाहती पर अंतिम निर्णय पार्टी के हाई कमान को ही लेना है.

पंजाब में अकेले लड़ने में सक्षम कांग्रेस

हरियाणा में भी लगभग ऐसी स्थिति है. हरियाणा से कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर के अनुसार पार्टी अपनी राय पहले ही पार्टी हाई कमान को दे चुकी है और पार्टी राज्य में अकेले लड़ने में भी सक्षम है.

हिन्दुस्थान समाचार /नरेंद्र जग्गा