#ChamkiFever: मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से तीन और बच्चों की मौत, 4 की हालत गंभीर

मुजफ्फरपुर, 22 जून. मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से पीड़ित और तीन बच्चों की मौत हो गई. इस महामारी से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़ कर 127 पहुंच गई है.

129 बच्चे अभी इलाजरत हैं. एसकेएमसीएच में शुक्रवार की शाम 04 बजे के बाद से शनिवार की सुबह 08 बजे तक सिर्फ और तीन बच्चों की मौत हो गई.

केजरीवाल अस्पताल में इस बीमारी से मौत का सिलसिला थमा है परंतु पीड़ित बच्चों का इलाज़ के लिए आने का सिलसिला जारी है.

एसकेएमसीएच में भर्ती होने वाले बच्चों की संख्या बढ़ कर 429 हो गयी है. इनमें से 188 बच्चों को इलाज़ के बाद वापस घर भेज दिया गया है और 124 बच्चों का इलाज अब भी जारी है. इसमें 04 बच्चों की हालत गंभीर बनी हुई है.

दूसरी ओर स्थानीय केजरीवाल हॉस्पिटल में आज तक पीड़ित 159 बच्चों को भर्ती कराया गया है जिनमें से 49 बच्चों को समुचित इलाज़ हेतु अन्यत्र रेफर किया गया. 05 बच्चे अभी तक भर्ती हैं. इसमें से 01 बच्चे की हालत गंभीर है.

संसद के दोनों सदनों में भी गूंजा ‘चमकी’ का मुद्दा
शुक्रवार को संसद के दोनों सदनों में बिहार में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (Acute Encephalitis Syndrome) से मासूमों की मौत का मामला गूंजा. लोकसभा और राज्यसभा में चर्चा के दौरान विपक्ष ने दिमागी बुखार से हो रही मौतों का मामला उठाया गया.

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने दिमागी बुखार का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि बिहार में तो एनडीए की सरकार भी है. उन्होंने ‘एक राष्ट्र एक चुनाव’ की तर्ज पर ‘एक राष्ट्र एक पोषण नीति’ लागू किए जाने की मांग की.

राजद सांसद मनोज झा ने राज्यसभा में इस मामले पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव दिया. उन्होंने 24 जून को दिमागी बुखार पर चर्चा के लिए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का नोटिस दिया, जिस पर सोमवार को चर्चा संभव है.

Leave a Comment

%d bloggers like this: