25 अक्टूबर से शुरू होगा कृषि क्षेत्र का सबसे बड़े सम्मेलन ‘एग्रो वर्ल्ड-2018’

नई दिल्ली. भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद और अखिल भारतीय किसान संघ के संयुक्त तत्वावधान में आगामी 25 से 27 अक्टूबर तक नई दिल्ली में कृषि क्षेत्र के सबसे बड़े सम्मेलन, प्रदर्शनी एवं पुरस्कार समारोह ‘एग्रो वर्ल्ड-2018’ का आयोजन किया जा रहा है. इस अवसर पर आयोजित अखिल भारतीय प्रगतिशील किसान सम्मेलन में कृषि एवं पर्यावरण के क्षेत्र को लेकर चर्चा होगी.

भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद अपने सहयोगी संस्थानों के साथ मिलकर कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, बागवानी, पशुपालन, मछली पालन आदि को बढ़ावा देने के लिए समय-समय पर अनेक आयोजन करता रहता है. इसी कड़ी में कृषि के क्षेत्र में यह भारत का सबसे बड़ा वैश्विक आयोजन है.  इसकी कमान अखिल भारतीय किसान संघ को सौंपी गई है.

भारतीय कृषि विकास परिषद के अध्यक्ष डॉक्टर एमजे खान एवं अखिल भारतीय किसान संघ के संयोजक डॉक्टर राजाराम त्रिपाठी ने बताया कि ‘इण्डिया इंटरनेशनल एग्रो ट्रेड एण्ड टेक्नोलॉजी फेयर- 2018’ में इस साल भारत सहित 15 देशों की दिग्गज हस्तियां भाग लेंगी तथा कृषि एवं पर्यावरण के क्षेत्र में वैश्विक एजेंडा पर चर्चा होगी. आयोजन में कई केन्द्रीय मंत्री एवं विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे.

इस दौरान दिल्ली के होटल हयात, विज्ञान भवन और पूसा परिसर में अलग अलग कार्यक्रम आयोजित होंगे, जो कृषि पर आधारित रहेंगे. इस आयोजन में कई प्रदर्शनियां, उन्नत खेती-किसानी से संबंधित कार्यक्रमों के अलावा स्टोरेज, परिवहन, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग, एक्सपोर्ट, फलोद्यान मसालों की खेती, बागवानी, डेयरी, मछली पालन, कृषि नीतियों आदि पर चर्चा होगी.

डॉक्टर त्रिपाठी ने उम्मीद जताई कि एग्रो वर्ल्ड-2018 सरकारी एवं निजी क्षेत्र के सभी हितधारकों को एक मंच पर लाएगा, जहां उन्हें कृषि क्षेत्र में मौजूद अवसरों एवं मुद्दों पर चर्चा करने का अवसर मिलेगा. कृषि मूल्य श्रृंखला में स्टार्टअप पर एक विशेष सत्र का आयोजन किया जाएगा. यह सत्र इस क्षेत्र में कारोबार के अवसरों, साझेदारियों आदि के संबंध में महत्वपूर्ण मंच साबित होगा.

प्रर्दशनी के दौरान कृषि मूल्य श्रृंखला पर आधारित ऐसी विश्वस्तरीय तकनीकों और तरीकों को प्रदर्शित किया जाएगा, जो देश-विदेश में किसानों की समृद्धि के लिए फायदेमंद साबित होगी. कार्यक्रम के मौके पर कृषि क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए पुरस्कार भी दिये जायेंगे. एग्रो वर्ल्ड-2018 के दौरान कृषि, जैव प्रोद्यौगिकी, खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे. इसके अलावा एशिया, अफ्रीका, लैटिन अमेरिका, अमेरिका, कनाडा और आस्ट्रेलिया से भी अनेक प्रतिनिधि, अधिकारी, मंत्री एवं राजदूत इसमें भाग लेंगे.

एग्रो वर्ल्ड-2018 के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए डॉक्टर त्रिपाठी ने बताया कि कृषि से जुड़े उद्योगों के लिए यह सुनहरा अवसर है, जिसमें वे दुनियां के सामने यह प्रदर्शित कर सकते हैं कि कृषि,बागवानी, पशुपालन, खाद्य प्रसंसकरण और कृषि उत्पादों के संबंध में भारत की क्या वैश्विक क्षमताएं और संभावनाएं हैं.

इसके अलावा इस अयोजन से कृषि के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय व्यापार, निवेश, साझेदारी और किसानों की आय बढ़ाने से संबंधित विभिन्न पहलुओं के भी संभावनाओं के द्वार खुलेंगे.

आशुतोष

क्या है राफेल विवाद?

धनतेरस के दिन ये जरुर खरीदें-आचार्य विनोद भारद्वाज

हवाई सफर पर क्या आए आम आदमी के ‘अच्छे दिन’?

‘अब हिंदुओं को मनाने में जुटी कांग्रेस’

द्वार खुले पर दर्शन बाकी

क्या कानून से बनेगा राम मंदिर?

Aadhaar बैंक, स्कूल, सिम कार्ड लेने और कंपनियों में जरूरी नहीं

आप दूध नहीं, जहर पी रहे हैं ?