ब्रिटेन में 1.4 करोड़ लोग साइकिल सवारी के लिए तैयार

कोरोनावायरस महामारी फैलने के कारण ब्रिटेन में एक परिवहन क्रांति आ सकती है, जिसमें 1.4 करोड़ लोग कारों को छोड़कर साइकिल की सवारी के लिए तैयार हैं. ब्रिटिश साइक्लिंग का मानना ​​है कि अगर शहर और कस्बे नए आपातकालीन बुनियादी ढांचे जैसे कि पॉप-अप साइकिल लेन उपलब्ध कराने के परिवहन विभाग के निर्देश का पालन करने में विफल रहते हैं तो यह अवसर खत्म भी हो सकता है.

कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन में ढील देने के बावजूद बसों और ट्रेनों पर यात्रा करना अभी भी कम है. सरकार ने साइकिल चलाने और पैदल चलने जैसी “सक्रिय यात्रा” के लिए 2 अरब पाउंड (2.42 अरब डॉलर) के फंडिंग पैकेज की घोषणा की है जिसमें स्थानीय अधिकारियों को अपनी सड़कों में बदलाव करने के लिए तुरंत 250 मिलियन उपलब्ध हैं.

प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने इसे “साइकिल चलाने के लिए स्वर्ण युग” के अवसर के रूप में वर्णित किया.

ब्रिटिश साइक्लिंग का कहना है कि वह सार्वजनिक अधिकारियों और नीति निर्माताओं के साथ काम करेगा. सुरक्षित साइकिल चलाने के एक उत्साही समर्थक पूर्व ओलंपिक चैंपियन क्रिस बोर्डमैन इसके नीति सलाहकार के रूप में काम कर रहे हैं. मानचेस्टर शहर के वॉकिंग और साइकिलिंग कमिश्नर की अपनी भूमिका में शहर के साइक्लिंग बुनियादी ढांचे को बदलने में मदद कर रहे बोर्डमैन 12 शहरों के अधिकारियों के साथ एक वेबिनार की मेजबानी करेंगे.

ब्रिटिश साइक्लिंग प्रमुख जूली हैरिसन ने कहा, “हमारा देश निस्संदेह एक चौराहे पर है. हमें अब कारों की पुरानी दिनचर्या, भीड़भाड़ और प्रदूषण या साफ गलियों, खुशहाल लोगों और स्वच्छ हवा के बीच एक विकल्प को चुनना है.”

यह भी दावा किया गया है कि 2050 तक देश में सभी यात्राओं के 25% तक साइकिल चलाने से 42 अरब पाउंड से अधिक का आर्थिक लाभ हासिल हो सकता है. जबकि शहरी निवासियों के रोजाना 3 किमी. साइक्लिंग और 1 किमी. पैदल चलने से एनएचएस अगले 20 साल में 17 अरब पाउंड से अधिक बचा सकता है.

हिन्दुस्थान समाचार/राकेश सिंह

Leave a Reply

%d bloggers like this: