विदेशी महिला से रेप के आरोपी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने आज एक विदेशी महिला से रेप के आरोपी योगा इंस्ट्रक्टर को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया है. मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अंकिता लाल ने पिछले 17 फरवरी को आरोपी अभिषेक सिंह को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा था. 

आज दिल्ली पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया, जिसके बाद कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया. विदेशी महिला यूक्रेन की रहने वाली है. महिला की ओर से वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने इसके पहले हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने रेप की शिकार विदेशी महिला को सुरक्षा देने का निर्देश दिया था. 

महिला के मुताबिक उसके साथ योगा इंस्ट्रक्टर अभिषेक सिंह ने शादी का झांसा देकर कई बार रेप किया. हाईकोर्ट ने अभिषेक सिंह के दर्ज एफआईआर में रेप की धारा जोड़ने का आदेश दिया था. हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने अभिषेक सिंह को आज 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया.

हाईकोर्ट ने एम्स अस्पताल को निर्देश दिया कि वो महिला के ब्रेस्ट कैंसर का मुफ्त इलाज करे. महिला के पास कैंसर के इलाज के लिए पैसे नहीं थे. हाईकोर्ट ने एम्स अस्पताल को निर्देश दिया था कि महिला के इलाज में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए और अगर कोई दवा नहीं मिलती है तो उसका एम्स के निदेशक इंतजाम करें.

आरोपी अभिषेक सिंह ने महिला को फेसबुक से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा था. आरोपी ने महिला को मैसेज भेजकर कहा था कि वह भारत के करीब सभी सेलेब्रिटी को योगा सिखाता है. उसने महिला को ठगने के उद्देश्य से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ अपनी एक फर्जी फोटो महिला को भेजी. 

आरोपी महिला को लगातार मैसेज भेजता रहा. बाद में उसने महिला से कहा कि वह उससे प्रेम करता है और उससे शादी करना चाहता है. महिला 22 जुलाई 2017 को गोवा आई जहां उसे आरोपी मिला. महिला के मुताबिक आरोपी ने 22 जुलाई को उसके साथ रेप किया. 

गोवा में जब महिला उससे अलग होना चाहा तो आरोपी ने उसे जान से मारने की धमकी दी. 24 जुलाई को महिला ने आरोपी का दिल्ली के लिए फ्लाइट बुक कराया और कहा कि वह दूसरे फ्लाइट से आ जाएगी. दिल्ली पहुंचने पर आरोपी ने महिला से माफी मांगी और कहा कि वह उससे बेहद प्यार करता है और वह उससे शादी करना चाहता है.

आरोपी के कहने पर महिला उत्तराखंड के ऋषिकेश पहुंची. ऋषिकेश में आरोपी ने महिला पर संयुक्त रुप से एक योगा ट्रेनिंग सेंटर चलाने का दबाव बनाया. योगा ट्रेनिंग सेंटर के नाम पर करीब पांच लाख रुपए लिए. इस दौरान दिल्ली और ऋषिकेश में आरोपी ने महिला के साथ के बार रेप किया. 

इस बीच महिला को पता चला कि आरोपी शादीशुदा है. जब महिला ने आरोपी से इसके बारे में पूछा तो उसने कहा कि उसके भाई की मौत हो गई थी जिसके बाद उसने अपने परिवार की परंपरा के मुताबिक शादी कर ली. इसके बाद महिला का आरोपी पर शक गहरा हो गया. परेशान होकर महिला 16 अक्टूबर 2018 को भारत छोड़कर अपने देश चली गई.

1 दिसंबर 2018 को महिला ने अपने फेसबुक पोस्ट में अपने साथ घटी घटना का जिक्र किया. उसने आरोपी की राष्ट्रपति के साथ फोटो का भी जिक्र किया. महिला ने अपने दोस्तों से आरोपी से सावधान रहने की अपील की. महिला के इस पोस्ट पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति के ओएसडी ने आरोपी के खिलाफ 6 दिसंबर 2018 को दिल्ली पुलिस से शिकायत की.

दिल्ली पुलिस ने साउथ एवेन्यू थाने में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की. महिला को इस FIR की जानकारी नहीं थी. एफआईआर में महिला के साथ रेप का आरोप नहीं लगाया गया था. इस मामले में आरोपी को करीब 22 दिन जेल में रहने के बाद पटियाला हाउस कोर्ट के सेशंस जज ने जमानत दे दी थी. 

महिला की ओर से हाईकोर्ट में आरोपी की जमानत निरस्त करने की मांग की गई थी. हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान इस मामले की जांच कर रही जांच अधिकारी ने कहा था कि पूरक चार्जशीट दाखिल करेगी और आरोपी के खिलाफ रेप की धारा भी जोड़ेगी. जांच अधिकारी ने हाईकोर्ट को बताया था कि जरुरत पड़ने पर वह आरोपी को गिरफ्तार करेगी. 

हिन्दुस्थान समाचार/संजय कुमार

Leave a Reply

%d bloggers like this: