Doctors Strike

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के RG कर अस्पताल में 100 से अधिक सीनियर डॉक्टर्स ने एक साथ सामूहिक इस्तीफा दे दिया है. खास बात यह है कि इस्तीफा के बाद ये सारे डॉक्टर समूह में मिले और अस्पताल के उस परिसर में जा पहुंचे जहां जूनियर डॉक्टर आंदोलन कर रहे थे.

जैसे ही अपने सीनियर डॉक्टरों को जूनियर डॉक्टरों ने देखा, उनकी आंखों में आंसू भर गए. चारों तरफ तालियों की गड़गड़ाहट गूंज रही थी और सीनियर तथा जूनियर डॉक्टर एक साथ मिलकर ‘वी वांट जस्टिस, वी वांट जस्टिस’ के नारे लगा रहे थे. 

इस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपना इस्तीफा राज्य स्वास्थ्य विभाग के निदेशक को सौंपा है. इन लोगों ने साफ कर दिया है कि चिकित्सक नहीं होने की वजह से रोगियों का इलाज करने में ये लोग सक्षम नहीं हैं. इसीलिए सामूहिक इस्तीफा दे रहे हैं. 

10 जून की रात NRS अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों पर बर्बर हमले के बाद से राज्य भर के जूनियर डॉक्टरों ने तो हड़ताल कर दिया था लेकिन वरिष्ठ डॉक्टर आंदोलन से लगभग दूरी बना कर रखे थे. इससे जूनियर डॉक्टर भी शंकित थे. 

उन्हें इस बात का भी डर लग रहा था कि उनके भविष्य का क्या होगा, कहीं मेडिकल कॉलेज उनके सर्टिफिकेट पर रोक ना लगा दे, लेकिन शुक्रवार को जब वरिष्ठ डॉक्टर भी इस्तीफा देकर उनके बीच जा बैठे तब यहां का माहौल काफी भावुक हो गया था. अपने वरिष्ठों के पास पाकर जूनियर डॉक्टरो में न्याय की आस जगी है. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हड़ताल खत्म करने की अपील की

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr. Harsh Vardhan) ने हड़ताल पर गए डॉक्टर्स से वापस काम पर लौटने की अपील की है. उन्होंने कहा कि दिल्ली के जो डॉक्टर हड़ताल पर हैं उनसे अपील करेंगे कि जो उन्होंने शपथ ली थी उसे याद करते हुए हड़ताल वापस लें. उन्होंने कहा कि विरोध दूसरे और भी तरीके हो सकते हैं.

डॉ. हर्षवर्धन ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि डॉक्टरों को वो धमका रही हैं. उन्हें हड़ताल खत्म करने के लिए कदम उठाना चाहिए. डॉ. हर्षवर्धन आज ममता बनर्जी को पत्र लिखेंगे और डॉक्टरों की हड़ताल खत्म करने की अपील करेंगे.

इसके साथ ही वे कल (शनिवार) देश के सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर अस्पतालों में डॉक्टरों को सुरक्षित माहौल मुहैया कराने की गुजारिश करेंगे.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Leave a Reply