दिवाली से पहले बैंकों ने करोड़ों ग्राहकों को दिया ये तोहफा, जानकर खुशी से झूम उठेगें आप

नई दिल्ली. दिवाली आने में अब बस कुछ ही दिनों का समय रह गया है. ऐसे में फेस्टिव सीजन में हर जगह सेल देखने को मिल रही है. फिर चाहे वो छोटी दुकान हो या फिर बड़ा सा मॉल. हर जगह डिस्काउंट ऑफर्स और सेल की ही बरसात हो रही हैं. ऐसे में जब सभी लोग ऑफर्स देने में बिजी हैं, तो बैंक कैसे पीछे रह सकते हैं. बैंकों ने भी ऑफर्स देने शुरू कर दिए हैं,
एसबीआई ने की थी कटौती की शुरूआत
ऑफर्स की शुरूआत का सिलसिला एसबीआई ने शुरू किया था. जिसे अब एक -एक कर सभी बैंक फॉलो कर रहे हैं. सार्वजनिक क्षेत्र के इलाहाबाद बैंक ने मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट यानी की MCLR में 0.05 फीसद की कटौती की है.
इलाहाबाद बैंक कि इस कटौती के बात अब होम और ऑटो लोन लेना सस्ता हो जाएगा. यह कटौती कल यानी की सोमवार 14 अक्टूबर से लागू हो जाएगी,
शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा कि मौजूदा एमसीएलआर की समीक्षा के बाद विभिन्न मैच्योरिटी पीरियड के कर्ज के लिए इसमें 0.05 फीसद की कटौती करने का फैसला किया गया है.अब बैंक की एक साल की बेंचमार्क एमसीएलआर 8.40 फीसद से घटकर 8.35 फीसद रह जाएगी.
इलाहाबाद बैंक का बड़ा तोहफा-
सिर्फ इलाहाबाद बैंक ही नहीं बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र के करीब आधा दर्जन बैंकों ने अपने ऋण की ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत तक की कटौती की है. इन बैंकों में बैंक ऑफ इंडिया, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और इंडियन ओवरसीज बैंक सहित दूसरे बैंक शामिल हैं.
बैंक कटौती करने का ये कदम आरबीआई के रेपो दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती करने के बाद उठा रहे हैं.
आईओबी ने भी की कटौती-
इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) ने गुरुवार को एक नवंबर से खुदरा और सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों के लिए कर्ज पर ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की.
एसबीआई ने की कटौती-
एसबीआई ने MCLR को 0.10 फीसद कम किया है. एसबीआई की ये नई दरें 10 अक्टूबर से लागू हो चुकी हैं. आपको बता दें कि बैंक की ओर से इस साल MCLR में यह छठीवीं कटौती है. कटौती के बाद से एक साल के कर्ज का एलसीएलआर कम होकर 8.05 फीसद पर आ गया है.यह कटौती रेपो दर से जुड़े कर्ज पर प्रभावी नहीं होगी.

Leave a Reply

%d bloggers like this: