कुछ इस तरह से बीते 10 सालों में टेक्नोलॉजी ने बदली लोगों की जिंदगी

  • पिछले दशक में आई डिजिटल क्रांति ने पूरी दुनिया के काम करने का तरीका बदल दिया
  • तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में जिसकी वजह से आज हमारी जिंदगी पूरी तरीके से बदल गई है

नई दिल्ली. 2020 के साथ ही एक नए सफर की शुरूआत हो चुकी है. लेकिन बीता साल के साथ ही भले ही एक दशक बीत गया हो, लेकिन वो अपने पीछे बहुत कुछ ऐसा छोड़ कर गया है, जिसने हमारी जिंदगी को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है.

  • पिछले दशक में आई डिजिटल क्रांति ने पूरी दुनिया के काम करने का तरीका बदल दिया. तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में जिसकी वजह से आज हमारी जिंदगी पूरी तरीके से बदल गई है.  तो चलिए जानते हैं इन टेक्नोलॉजी के बारे में…
  • सबसे पहले बात करते हैं उसकी जिसके बिना शायद अब हम एक मिनट भी नहीं बिता सकते हैं, यानी की हमारे स्मार्टफोन की.
  •   पिछले एक दशक में मोबाइल फोन फीचर फोन से टच स्क्रीन तक पहुंच गए हैं. जिस फोन की कीमत 10 साल पहले 25 हजार रूपये से ज्यादा थी वो अब 4000 रूपये तक सिमट गई और कई लोगों के बजट में आ गई.
  • बड़ी रैम साइज, अल्ट्रा स्पीड प्रोसेसर्स, बड़ी इंटरनेट स्टोरेज, मेगा पिक्सल कैमरा, वायरलैस ब्लूटुथ हैड फोन्स, ब्लूटुथ स्पीकर्स और पावरबैंक अब आम बात हो गए हैं. फोन हमारे जिंदगी में एक अहम बदलाव लेकर आया है.
  • मोबाइल ट्रांज़ेक्शंस जो एक समय पर बहुत सीमित थे वो अब गूगल पे, पेटीएम और फोन पे से काफ़ी आसान हुई है और लोग तुरंत भुगतान कर पा रहे हैं. इसने लोगों की बैंक में घंटों लाइन में खड़े रहने की परेशानी को कम किया है.
  • 2जी से स्टार्ट हुआ दशक का सफर अब 5जी तक पहुंच चुका है. जिसने लोगों को इंटरनेट का बेहतरीन अनुभव दिया है. डाटा का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ा है. जिसने न सिर्फ इंटरनेट के जरिए होने वाले काम को तेज किया बल्कि कई मायनों में हमारी जिंदगी को आसान बना दिया. जिसकी वजह से आज हम आसानी से कई सारे कामों को घर बैठे मिनटों में कर रहे हैं.
  • तेजी से बढ़ती मोबाइल टेक्नोलॉजी की वजह से ही पिछले एक दशक में ऑनलाइन खरीदारी बहुत तेजी से बढ़ी है. भारत में लोगों ने ग्रॉसरी, महंगे इलेक्ट्रॉनिक सामान और घर के सामान से लेकर सोना तक ऑनलाइन खरीदना शुरू कर दिया है. अब खरीदारी का लोगों का नजारिया बिल्कुल बदल चुका है.
  • इस दशक में बिना ड्राइवर की कारें (सेल्फ ड्राइविंग कारें ) भी सड़कों पर उतरी हैं। टेस्ला जैसी कंपनियों की इन कारों की बाज़ार में मांग है.
  • इंटरनेट से लिंक करके, गूगल मैप और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करके ये कारें लोगों को बिना किसी जोख़िम के उनकी मंजिल तक पहुंचाती हैं। कई बड़ी कंपनियां सेल्फ-ड्राइविंग कारें बनाने पर काम कर रही हैं.

Hindi News | Hindi Samachar | समाचार | Technology News in Hindi

Leave a Reply

%d bloggers like this: